मेरे पहले मित्र


June 12, 2017 | poems-wishes

मेरे पहले मित्र

प्रिय के. सी. अग्रवाल,

तुम पहले थे मेरे मित्र, आज भी तुम पहले ही रहोगे,
अपनी सांसे थमने तक, याद में भी पहले ही रहोगे ||
विजय भवन ए की वो डोर्मट्री, मैट्रन ने मिलवाया था,
कहा था अच्छे बच्चे हो तुम, फिर हमने हाथ मिलाया था ||
अब तक बन्धु, मेरे लिए, अच्छे बच्चे के मानक तुम ही हो,
जनम दिवस पर ख़ुशी मनाना, मन से बालक तुम जो हो ||

हैप्पी बर्थडे
सुनील जी गर्ग


प्रिय के. सी. अग्रवाल, तुम पहले थे मेरे मित्र, आज भी तुम पहले ही रहोगे, अपनी सांसे थमने तक, याद में भी पहले ही रहोगे || विजय भवन ए की वो डोर्मट्री, मैट्रन ने मिलवाया था, कहा था अच्छे बच्चे हो तुम, फिर हमने हाथ मिलाया था || अब तक बन्धु, मेरे लिए, अच्छे बच्चे […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

|