मन की दीवाली     


Poems : Self Flows18-Oct-2017


पूजें गणेश, पूजें लक्ष्मी,
रख मर्यादा राम सम,
मन से माटी दीप जलाएं,
झालर से न भागे तम.

करें प्रेम की आतिशबाजी,
सारे मिलने वालों संग |
बिना पटाखे फोड़े ही,
मन हो सकता मस्त मलंग.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|