शिवम् जन्मदिन 2018     


Poems : Wishes26-Feb-2018


“सारे सपने हैं बच्चे अपने”

दूरी है ग्यारह हज़ार, मगर बातें हैं ग्यारह करोड़,
आज मन करता है, वक्त को दूं पीछे को मोड़ |
मेरा श्याम गया है, कुछ श्याम सा खोजने,
क्या जोडूं यादें उसकी, जो खुद हो बेजोड़ ||

तभी तो मैं उसके चित्र भी नहीं मांगता,
रोज़ रोज़ कोई नई मूरत बनाई नहीं जाती |
बस याद आती है तो लिख लेता हूँ कविता,
मंदिर में बाल लेता हूँ दिया और बाती ||

आदत अब बदलने को कहता है ज़माना,
आदत क्या होती हैं किस्मत की लकीरें |
शायद अच्छी ही होती है आदत अपनों की,
किस्मत भरती है पानी, गर बात तो सपनों की||

बड़े हों या छोटे, जो सच हो जायें,
वो सब अच्छे होते हैं सपने |
कोई कह पाए या न कह पाए,
माँ, बाप के लिए तो सारे सपने हैं बच्चे अपने ||

जन्म दिन की बधाई मेरे बच्चे
-पापा
26-02-2018

Tags: ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|