मनोहर की विदाई     


Poems : Tributes18-Mar-2019


आज के उलझे युग में भी सरल हो सकते हैं लोग
मनोहर उसके अनोखे उदहारण थे
वहां भी ऐसा व्यक्ति चाहिए होगा
ईश्वर को वहां बुलाने के भी अपने कारण थे

जाओ तो जग से ऐसे जाओ
दुश्मन भी झुकाये माथा
शोर मचाने वाले जरा समझें
चुप वीरों की भी, गायी जायेगी गाथा

हम किसमें ढूंढेंगे आदर्श आपसा
शून्य बड़ा दिखता है खड़ा
स्वच्छ हो सकती है राजनीति भी
आपको देखा तो मानना ही पड़ा

कलाम, अटल, मनोहर ने बतलाया
बोलता पैसा नहीं, बोलता है काम
मन को हरने वाले की हो रही विदाई
आज आपको हर देशवासी का सलाम।

सुनील जी गर्ग

Tags: ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|