नववर्ष 2018 (धन्यवाद कविता )     


Poems : Special days02-Jan-2018


आपके नव वर्ष सन्देश का धन्यवाद,
आपके लिए ये रचना समर्पित है ||

नव, नूतन, नवीन नया हो,
हर क्षण जीवन रहे ताज़गी |
बढ़े देश और बढ़ें ये रिश्ते,
नए साल पर दिखी बानगी |
करें नमन स्वीकार हमारा,
होगा मिलना, होगी बात भी ||

सुनील जी गर्ग

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

|