On Atul’s US Trip     


Poems : People07-Aug-2019


देश राग सुना कर आना
जाना जब विदेश
पूरब से तुम आये हो
देना ये संदेस

देना ये संदेस
यहाँ पर कण कण में संगीत
उनका भी कुछ सुन कर आना
फिर गाना नूतन गीत

गाना नूतन गीत
महफ़िलें लेना लूट
प्यार में पड़ जाए वो भी
जिसका दिल भी गया हो टूट

मगर एक वादा देते जाना
सुनाते रहना कोई पुराना गाना
जाओ दोस्त जाओ, गाओ बजाओ
दुनिया को अपनी धुनों पर नचाओ

अतुलता आपकी यात्रा मंगलमय हो

Tags: , , , , ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|