शागिर्द     


Poems : Shayari24-Jul-2019


तेरी बात काटूं करता है मन,
बोलता है तो सोचूं डालूं खलल ।
तेरा सही भी ग़लत लगता है मुझे,
अनसुना कर मुझे तू बोलता रहा कर ।।

धीरे धीरे तुझसे भी कुछ जान ही लूँगा,
मुझे पता है मुझमें ये आदत है ।
तू खोज और नई बातें बता,
सीखने की मुझमें भी शिद्ददत है।।

Tags: ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|