सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि     


Poems : Tributes07-Aug-2019


परम आदरणीय सुषमा दीदी के लिए मेरे श्रद्धा सुमन

कल भी उगेगा सूरज,
सुषमा विहीन मगर होगा |
कल भी चलेगी ज़िन्दगी,
उदासी भरा सफर होगा ||

कुछ को याद करते हैं कुछ ही ,
कुछ को करता है हर कोई |
फर्क ये है कामों का है मोल,
किसी के लिए प्रकृति भी रोई ||

बेटी, पत्नी, माँ या बहिन,
सभी रूपों को शान से जिया |
कश्मीर पर इच्छा क्या हुई पूरी,
ठहरा ही लिया अपना हिया ||

पर असल तो याद करेगी दुनिया,
सबसे मिलना, और वाणी का ओज |
भगवान भी बात मान लेगा आपकी,
यहाँ तो मानते ही थे सब लोग ||

बस भगवान् को यूं मनाइएगा,
यहाँ जो हुआ है शांति से जाये निबट |
नए रास्ते बेहतर साबित हों ,
नयी सुबह देश ले एक नयी करवट |

– सुनील जी गर्ग

Tags: , ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|