चाँद खिलौना अन्ना का     


Poems : People17-Aug-2011


अन्ना अजब तुम्हारा सपना
चाँद खिलौना मांगे हो
राज भोगने वाले कहते
तुम अपनी सीमा लांघे हो

जादू की छड़ी तुम्हारे पास
उनको ये मंजूर नहीं
तभी बहाना न होने का
कितने वो मजबूर सही

जाग उठा अब भारत सारा
चला तुम्हारा जादू
जागीं माता जागीं बहिना
जागे बच्चे जागे दादू

दरअसल मन हैं सबके भारी
भ्रष्टाचार के सभी शिकारी
धिक्कार कर लिया बहुत
अब अंतिम लड़ाई की बारी

चाहे रॉकेट पड़े बनाना
चाँद खिलौना ले आयेंगे
सविंधान का वही बहाना
न बनाने देंगे न बनायेंगे

– सुनील जी गर्ग

Tags: , , , ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|