अपने देश में कहलाये प्रवासी     


Poems : Self Flows21-May-2020


राममयी जनता है, जनता में राम हैं
देवलोक में लॉकडाऊन, उनको भी आराम है
जिनको आराम न था सड़कों पर निकले हैं
अपने देश में कहलाये प्रवासी, अजीब नए जुमले हैं

Tags: , , , , , ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|