लिख गयी पोथी     


Poems : People02-Oct-2013


आपको बधाई ,
अनुभूतियाँ यूं ही आती रहें अनोखी ,
किताबें बनती रहें और,
खबरें आती रहें चोखी |
दिन ये आते रहें बार बार,
बाट जिनकी है कब से देखी,
पढ़ती थी दुनिया अब तक इधर उधर से,
अब पढ़ेगी आपकी लिखी ये पोथी ||

(Given to Sister Dr. Anjana Agarwal on the Launch of Her First Book “A Text Book of Human Nutrition”)

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|