सुशांत भी हो सकते हैं अशांत

June 14, 2020

जान नहीं पाती है दुनिया दिखने में हंसमुखों का गम सुशांत भी हो सकते हैं अशांत लोगों को कम जानते हैं हम सुशांत सिंह राजपूत को श्रद्धांजलि

बासु चटर्जी को श्रद्धांजलि

June 4, 2020

मूर्धन्य फ़िल्मकार बासु चटर्जी के देहावसान पर मेरी श्रद्धांजलि छोटी सी बात बताकर, चले गए चितचोर उस पार, शौकीन बना कर दी गुदगुदी, मनपसंद आपकी रजनीगंधा, जीना यहाँ, यहीं है सारा आकाश, ये लाखों की बात बताई, बातों बातों में अपने पराये हुए, निछावर आपपर हमारी श्रद्धा || उपरोक्त पंक्तियों में बासु चटर्जी द्वारा निर्देशित […]

सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि

August 7, 2019

परम आदरणीय सुषमा दीदी के लिए मेरे श्रद्धा सुमन कल भी उगेगा सूरज, सुषमा विहीन मगर होगा | कल भी चलेगी ज़िन्दगी, उदासी भरा सफर होगा || कुछ को याद करते हैं कुछ ही , कुछ को करता है हर कोई | फर्क ये है कामों का है मोल, किसी के लिए प्रकृति भी रोई […]

मनोहर की विदाई

March 18, 2019

आज के उलझे युग में भी सरल हो सकते हैं लोग मनोहर उसके अनोखे उदहारण थे वहां भी ऐसा व्यक्ति चाहिए होगा ईश्वर को वहां बुलाने के भी अपने कारण थे जाओ तो जग से ऐसे जाओ दुश्मन भी झुकाये माथा शोर मचाने वाले जरा समझें चुप वीरों की भी, गायी जायेगी गाथा हम किसमें […]

शहीदों के ताबूत

February 15, 2019

टीवी पर शहीदों के तिरंगे में लिपटे बॉक्सेस देखकर हृदय द्रवित हो गया और बस ये लिख डाला, कोई बात किसी को उद्वेलित करती हो तो क्षमाप्रार्थी हूँ. पहले सोचा किसी से शेयर न करूँ, फिर सोशल मीडिया की पावर का प्रयोग करने का सोचा। लाइन लगी तिरंगों की, पर डूबा था तन मन गम […]

बड़े मामा जी आपकी याद

October 8, 2018

आपकी याद युग बीत जाएगा मन जानता न था आप साक्षात् न होंगे दिल मानता न था आपसे बहुत सीखा मन था और भी पर आपकी इंतज़ार में था जहाँ एक और भी आपने सुलझाईंं थीं जीवन की पहेलियाँ वक़्त ठहर जाता था बातों में होती थी देरियाँ महफ़िल जमती थी आते थे चटनी पकौड़े […]

बड़े मामाजी को भावभीनी श्रद्दांजलि

October 3, 2018

सब प्रश्नों के उत्तर देकर मौन आज वो सो रहे ओज आपका रौशन अब भी काहे हम सब रो रहे आपने दी प्रेरणा सबको आप केंद्र के सूरज थे आप से रौशन थे हम सब आप प्रेम की मूरत थे सबको ढाढस देते थे जब आती थी कठिनाई आज हमें अब कौन संभाले आपकी जब […]

कमलेन्द्र श्रद्धांजलि 2018

October 2, 2018

कमलेन्द्र को हार्दिक श्रद्धांजली जीवंत थे तुम कमलेन्द्र, सदा जीवंत ही रहोगे | परमात्मा से जा मिले तो क्या, मित्रों के लिए तो तुम, आदि भी रहोगे अनंत भी रहोगे || आज अश्रु हैं थोड़े से, साथ बीती यादें आएँगी तो ये भी न रहेंगे, आज तुम न रहे तो क्या कल हम भी तो […]

काल के कपाल में

August 17, 2018

अटल जी की कविताओं के कुछ शब्द लेकर ये श्रद्धा सुमन मेरी तरफ से अर्पित हैं काल के कपाल में, देश का एक लाल क्यों ऐसे सो रहा है, देश रो रहा है बनती थी सबसे, पर मौत से ठनी थी शायद तभी सो रहा है, देश रो रहा है गीत नया गाता था, सबको सुनाता था चुप आज सो […]

सिंघल सर

May 28, 2018

कैसे दूंगा विदाई आपको इस घड़ी की तैयारी न थी दोस्त गुरु या सर कहूँ अभी तो आपकी बारी न थी आप जाकर भी नहीं गए हैं क्योंकि सूरज चाँद कभी जाते नहीं आपके साथ बीते लम्हे चलचित्र बन गए; भुलाते नहीं नमन आपकी उस शक्ति को जिसने दिया हम सबको प्रकाश आपके दिखाए रास्ते […]

एक और ख़ास अँगरेज़

March 14, 2018

टीवी पर स्टीफेन हाकिंग पर कोई प्रोग्राम न दिखा तो सोचा एक कविता से श्रद्धांजली देनी चाहिए . नहीं रहा एक अंग्रेज, नाम था स्टीफेन हाकिंग | समझाया ब्रम्हांड को उसने, की ब्लैक होल पर टॉकिंग || असमर्थ शरीर, समर्थ मस्तिष्क, दिया ईश्वर को चैलेंज | रिलेटिविटी को क्वांटम से मिलाया, किया साइंस को चेंज […]

गुरु कभी जाते नहीं

February 21, 2014

मुझे पता है कि, ख़तम हुआ है आपका पीरियड | अगले पीरियड तक याद करके रखूँगा पाठ, हो जायूँगा सीरियस  || मुझे पता है कि, आप कहीं जायोगे नहीं | आप याद नहीं, सीख बनकर रहेंगे पास, क्योंकि गुरु कभी जाते नहीं || मुझे पता है कि, आप ही की वजह से, मुझे सब पता […]

एक अमरीकी की मौत

October 6, 2011

स्टीव भैया चले गए मन में चुभन सी दे गए जाना था सबको था पता दिमाग था तेज तन था रीता सोच अलग थी बड़ी अनोखी दुनिया बना दी बड़ी ही चोखी ‘I’ लगाकर हर चीज में मुझे दिया सम्मान ipod से iphone तक बदला सारा जहान किसी अमरीकी की मौत पर हिंदुस्तान न हुआ […]