एक चीज़ आज मांग लो


तुमको दिल दिखायें या दिमाग़,
एक चीज़ आज मांग लो हमसे |
ज़्यादा न सोचना क्या है तुम्हारी ज़रुरत,
घड़ी ऐसी न शायद आयेगी फिर से ||


http://indyan.com/?p=364327-Jan-2020