हमारे वो मशहूर थे     


Poems : Shayari01-Dec-2021


एक बार अखबारों में लिखा जाऊं
हसरतें अब हो चुकी हैं पूरी
फिर चाहे रद्दी में बिकुं गम नहीं
पीदियाँ कहेंगी, हमारे वो मशहूर थे

This was written in response to this whatsapp post:
जिन्हें शौक् था,
अखबारो के पन्नों पर बने रहने का..!
वक़्त गुज़रा तो,
रद्दी के भाव बिक गये..!

Tags: , , ,

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
|